Free Christian classic ebooks for you to download:
Browse books now

Multilingual Online Bible


Urdu (Devanagari)
Type your search text here






Choose a Bible


Select book or range
Chapter


Urdu (Devanagari), Job 31

1    मैं ने अपनी आँखों से अह्द बाँधा है। तो फिर मैं किस तरह किसी कुंवारी पर नज़र डाल सकता हूँ?

2    क्यूँकि इन्सान को आस्मान पर रहने वाले ख़ुदा की तरफ़ से क्या नसीब है, उसे बुलन्दियों पर बसने वाले क़ादिर-ए-मुतलक़ से क्या विरासत पाना है?

3    क्या ऐसा नहीं है कि नारास्त शख़्स के लिए आफ़त और बदकार के लिए तबाही मुक़र्रर है?

4    मेरी राहें तो अल्लाह को नज़र आती हैं, वह मेरा हर क़दम गिन लेता है।

5    न मैं कभी धोके से चला, न मेरे पाँओ ने कभी फ़रेब देने के लिए फुरती की। अगर इस में ज़रा भी शक हो

6    तो अल्लाह मुझे इन्साफ़ के तराज़ू में तोल ले, अल्लाह मेरी बेइल्ज़ाम हालत मालूम करे।

7    अगर मेरे क़दम सहीह राह से हट गए, मेरी आँखें मेरे दिल को ग़लत राह पर ले गईं या मेरे हाथ दाग़दार हुए

8    तो फिर जो बीज मैं ने बोया उस की पैदावार कोई और खाए, जो फ़सलें मैं ने लगाईं उन्हें उखाड़ा जाए।

9    अगर मेरा दिल किसी औरत से नाजाइज़ ताल्लुक़ात रखने पर उकसाया गया और मैं इस मक़्सद से अपने पड़ोसी के दरवाज़े पर ताक लगाए बैठा

10   तो फिर अल्लाह करे कि मेरी बीवी किसी और आदमी की गन्दुम पीसे, कि कोई और उस पर झुक जाए।

11   क्यूँकि ऐसी हर्कत शर्मनाक होती, ऐसा जुर्म सज़ा के लाइक़ होता है।

12   ऐसे गुनाह की आग पाताल तक सब कुछ भस्म कर देती है। अगर वह मुझ से सरज़द होता तो मेरी तमाम फ़सल जड़ों तक राख कर देता।

13   अगर मेरा नौकर-नौकरानियों के साथ झगड़ा था और मैं ने उन का हक़ मारा

14   तो मैं क्या करूँ जब अल्लाह अदालत में खड़ा हो जाए? जब वह मेरी पूछगिछ करे तो मैं उसे क्या जवाब दूँ?

15   क्यूँकि जिस ने मुझे मेरी माँ के पेट में बनाया उस ने उन्हें भी बनाया। एक ही ने उन्हें भी और मुझे भी रहम में तश्कील दिया।

16   क्या मैं ने पस्तहालों की ज़रूरियात पूरी करने से इन्कार किया या बेवा की आँखों को बुझने दिया? हरगिज़ नहीं!

17   क्या मैं ने अपनी रोटी अकेले ही खाई और यतीम को उस में शरीक न किया?

18   हरगिज़ नहीं, बल्कि अपनी जवानी से ले कर मैं ने उस का बाप बन कर उस की पर्वरिश की, अपनी पैदाइश से ही बेवा की राहनुमाई की।

19   जब कभी मैं ने देखा कि कोई कपड़ों की कमी के बाइस हलाक हो रहा है, कि किसी ग़रीब के पास कम्बल तक नहीं

20   तो मैं ने उसे अपनी भेड़ों की कुछ ऊन दी ताकि वह गर्म हो सके। ऐसे लोग मुझे दुआ देते थे।

21   मैं ने कभी भी यतीमों के ख़िलाफ़ हाथ नहीं उठाया, उस वक़्त भी नहीं जब शहर के दरवाज़े में बैठे बुज़ुर्ग मेरे हक़ में थे।

22   अगर ऐसा न था तो अल्लाह करे कि मेरा शाना कंधे से निकल कर गिर जाए, कि मेरा बाज़ू जोड़ से फाड़ा जाए!

23   ऐसी हर्कतें मेरे लिए नामुम्किन थीं, क्यूँकि अगर मैं ऐसा करता तो मैं अल्लाह से दह्शत खाता रहता, मैं उस से डर के मारे क़ाइम न रह सकता।

24   क्या मैं ने सोने पर अपना पूरा भरोसा रखा या ख़ालिस सोने से कहा, ‘तुझ पर ही मेरा एतिमाद है’? हरगिज़ नहीं!

25   क्या मैं इस लिए ख़ुश था कि मेरी दौलत ज़ियादा है और मेरे हाथ ने बहुत कुछ हासिल किया है? हरगिज़ नहीं!

26   क्या सूरज की चमक-दमक और चाँद की पुरवक़ार रविश देख कर

27   मेरे दिल को कभी चुपके से ग़लत राह पर लाया गया? क्या मैं ने कभी उन का एहतिराम किया?

28   हरगिज़ नहीं, क्यूँकि यह भी सज़ा के लाइक़ जुर्म है। अगर मैं ऐसा करता तो बुलन्दियों पर रहने वाले ख़ुदा का इन्कार करता।

29   क्या मैं कभी ख़ुश हुआ जब मुझ से नफ़रत करने वाला तबाह हुआ? क्या मैं बाग़ बाग़ हुआ जब उस पर मुसीबत आई? हरगिज़ नहीं!

30   मैं ने अपने मुँह को इजाज़त न दी कि गुनाह करके उस की जान पर लानत भेजे।

31   बल्कि मेरे ख़ैमे के आदमियों को तस्लीम करना पड़ा, ‘कोई नहीं है जो अय्यूब के गोश्त से सेर न हुआ।’

32   अजनबी को बाहर गली में रात गुज़ारनी नहीं पड़ती थी बल्कि मेरा दरवाज़ा मुसाफ़िरों के लिए खुला रहता था।

33   क्या मैं ने कभी आदम की तरह अपना गुनाह छुपा कर अपना क़ुसूर दिल में पोशीदा रखा,

34   इस लिए कि हुजूम से डरता और अपने रिश्तेदारों से दह्शत खाता था? हरगिज़ नहीं! मैं ने कभी भी ऐसा काम न किया जिस के बाइस मुझे डर के मारे चुप रहना पड़ता और घर से निकल नहीं सकता था।

35   काश कोई मेरी सुने! देखो, यहाँ मेरी बात पर मेरे दस्तख़त हैं, अब क़ादिर-ए-मुतलक़ मुझे जवाब दे। काश मेरे मुख़ालिफ़ लिख कर मुझे वह इल्ज़ामात बताएँ जो उन्हों ने मुझ पर लगाए हैं!

36   अगर इल्ज़ामात का काग़ज़ मिलता तो मैं उसे उठा कर अपने कंधे पर रखता, उसे पगड़ी की तरह अपने सर पर बाँध लेता।

37   मैं अल्लाह को अपने क़दमों का पूरा हिसाब-किताब दे कर रईस की तरह उस के क़रीब पहुँचता।

38   क्या मेरी ज़मीन ने मदद के लिए पुकार कर मुझ पर इल्ज़ाम लगाया है? क्या उस की रेघारयाँ मेरे सबब से मिल कर रो पड़ी हैं?

39   क्या मैं ने उस की पैदावार अज्र दिए बग़ैर खाई, उस पर मेहनत-मशक़्क़त करने वालों के लिए आहें भरने का बाइस बन गया? हरगिज़ नहीं!

40   अगर मैं इस में क़ुसूरवार ठहरूँ तो गन्दुम के बजाय ख़ारदार झाड़ियाँ और जौ के बजाय धतूरा उगे।” यूँ अय्यूब की बातें इख़तिताम को पहुँच गईं।


Job 30    Choose Book & Chapter    Job 32


Licensed to Jesus Fellowship. All Rights reserved. (Script Ver 2.0.2)
© 2002-2021. Powered by BibleDatabase with enhancements from the Jesus Fellowship.