Free Christian classic ebooks for you to download:
Browse books now

Multilingual Online Bible


Urdu (Devanagari)
Type your search text here






Choose a Bible


Select book or range
Chapter


Urdu (Devanagari), Deuteronomy 28

1    रब्ब तेरा ख़ुदा तुझे दुनिया की तमाम क़ौमों पर सरफ़राज़ करेगा। शर्त यह है कि तू उस की सुने और एहतियात से उस के उन तमाम अह्काम पर अमल करे जो मैं तुझे आज दे रहा हूँ।

2    रब्ब अपने ख़ुदा का फ़रमाँबरदार रह तो तुझे हर तरह की बर्कत हासिल होगी।

3    रब्ब तुझे शहर और दीहात में बर्कत देगा।

4    तेरी औलाद फले फूलेगी, तेरी अच्छी-ख़ासी फ़सलें पकेंगी, तेरे गाय-बैलों और भेड़-बक्रियों के बच्चे तरक़्क़ी करेंगे।

5    तेरा टोकरा फल से भरा रहेगा, और आटा गूँधने का तेरा बर्तन आटे से ख़ाली नहीं होगा।

6    रब्ब तुझे घर में आते और वहाँ से निकलते वक़्त बर्कत देगा।

7    जब तेरे दुश्मन तुझ पर हम्ला करेंगे तो वह रब्ब की मदद से शिकस्त खाएँगे। गो वह मिल कर तुझ पर हम्ला करें तो भी तू उन्हें चारों तरफ़ मुन्तशिर कर देगा।

8    अल्लाह तेरे हर काम में बर्कत देगा। अनाज की कस्रत के सबब से तेरे गोदाम भरे रहेंगे। रब्ब तेरा ख़ुदा तुझे उस मुल्क में बर्कत देगा जो वह तुझे देने वाला है।

9    रब्ब अपनी क़सम के मुताबिक़ तुझे अपनी मख़्सूस-ओ-मुक़द्दस क़ौम बनाएगा अगर तू उस के अह्काम पर अमल करे और उस की राहों पर चले।

10   फिर दुनिया की तमाम क़ौमें तुझ से ख़ौफ़ खाएँगी, क्यूँकि वह देखेंगी कि तू रब्ब की क़ौम है और उस के नाम से कहलाता है।

11   रब्ब तुझे बहुत औलाद देगा, तेरे रेवड़ बढ़ाएगा और तुझे कस्रत की फ़सलें देगा। यूँ वह तुझे उस मुल्क में बर्कत देगा जिस का वादा उस ने क़सम खा कर तेरे बापदादा से किया।

12   रब्ब आस्मान के ख़ज़ानों को खोल कर वक़्त पर तेरी ज़मीन पर बारिश बरसाएगा। वह तेरे हर काम में बर्कत देगा। तू बहुत सी क़ौमों को उधार देगा लेकिन किसी का भी क़र्ज़दार नहीं होगा।

13   रब्ब तुझे क़ौमों की दुम नहीं बल्कि उन का सर बनाएगा। तू तरक़्क़ी करता जाएगा और ज़वाल का शिकार नहीं होगा। लेकिन शर्त यह है कि तू रब्ब अपने ख़ुदा के वह अह्काम मान कर उन पर अमल करे जो मैं तुझे आज दे रहा हूँ।

14   जो कुछ भी मैं ने तुझे करने को कहा है उस से किसी तरह भी हट कर ज़िन्दगी न गुज़ारना। न दीगर माबूदों की पैरवी करना, न उन की ख़िदमत करना।

15   लेकिन अगर तू रब्ब अपने ख़ुदा की न सुने और उस के उन तमाम अह्काम पर अमल न करे जो मैं आज तुझे दे रहा हूँ तो हर तरह की लानत तुझ पर आएगी।

16   शहर और दीहात में तुझ पर लानत होगी।

17   तेरे टोकरे और आटा गूँधने के तेरे बर्तन पर लानत होगी।

18   तेरी औलाद पर, तेरे गाय-बैलों और भेड़-बक्रियों के बच्चों पर और तेरे खेतों पर लानत होगी।

19   घर में आते और वहाँ से निकलते वक़्त तुझ पर लानत होगी।

20   अगर तू ग़लत काम करके रब्ब को छोड़े तो जो कुछ भी तू करे वह तुझ पर लानतें, परेशानियाँ और मुसीबतें आने देगा। तब तेरा जल्दी से सत्यानास होगा, और तू हलाक हो जाएगा।

21   रब्ब तुझ में वबाई बीमारियाँ फैलाएगा जिन के सबब से तुझ में से कोई उस मुल्क में ज़िन्दा नहीं रहेगा जिस पर तू अभी क़ब्ज़ा करने वाला है।

22   रब्ब तुझे मुहलक बीमारियों, बुख़ार और सूजन से मारेगा। झुलसाने वाली गर्मी, काल, पतरोग और फफूँदी तेरी फ़सलें ख़त्म करेगी। ऐसी मुसीबतों के बाइस तू तबाह हो जाएगा।

23   तेरे ऊपर आस्मान पीतल जैसा सख़्त होगा जबकि तेरे नीचे ज़मीन लोहे की मानिन्द होगी।

24   बारिश की जगह रब्ब तेरे मुल्क पर गर्द और रेत बरसाएगा जो आस्मान से तेरे मुल्क पर छा कर तुझे बर्बाद कर देगी।

25   जब तू अपने दुश्मनों का सामना करे तो रब्ब तुझे शिकस्त दिलाएगा। गो तू मिल कर उन की तरफ़ बढ़ेगा तो भी उन से भाग कर चारों तरफ़ मुन्तशिर हो जाएगा। दुनिया के तमाम ममालिक में लोगों के रोंगटे खड़े हो जाएँगे जब वह तेरी मुसीबतें देखेंगे।

26   परिन्दे और जंगली जानवर तेरी लाशों को खा जाएँगे, और उन्हें भगाने वाला कोई नहीं होगा।

27   रब्ब तुझे उन ही फोड़ों से मारेगा जो मिस्रियों को निकले थे। ऐसे जिल्दी अमराज़ फैलेंगे जिन का इलाज नहीं है।

28   तू पागलपन का शिकार हो जाएगा, रब्ब तुझे अंधापन और ज़हनी अब्तरी में मुब्तला कर देगा।

29   दोपहर के वक़्त भी तू अंधे की तरह टटोल टटोल कर फिरेगा। जो कुछ भी तू करे उस में नाकाम रहेगा। रोज़-ब-रोज़ लोग तुझे दबाते और लूटते रहेंगे, और तुझे बचाने वाला कोई नहीं होगा।

30   तेरी मंगनी किसी औरत से होगी तो कोई और आ कर उस की इस्मतदरी करेगा। तू अपने लिए घर बनाएगा लेकिन उस में नहीं रहेगा। तू अपने लिए अंगूर का बाग़ लगाएगा लेकिन उस का फल नहीं खाएगा।

31   तेरे देखते देखते तेरा बैल ज़बह किया जाएगा, लेकिन तू उस का गोश्त नहीं खाएगा। तेरा गधा तुझ से छीन लिया जाएगा और वापस नहीं किया जाएगा। तेरी भेड़-बक्रियाँ दुश्मन को दी जाएँगी, और उन्हें छुड़ाने वाला कोई नहीं होगा।

32   तेरे बेटे-बेटियों को किसी दूसरी क़ौम को दिया जाएगा, और तू कुछ नहीं कर सकेगा। रोज़-ब-रोज़ तू अपने बच्चों के इन्तिज़ार में उफ़क़ को तकता रहेगा, लेकिन देखते देखते तेरी आँखें धुन्दला जाएँगी।

33   एक अजनबी क़ौम तेरी ज़मीन की पैदावार और तेरी मेहनत-ओ-मशक़्क़त की कमाई ले जाएगी। तुझे उम्र भर ज़ुल्म और दबाओ बर्दाश्त करना पड़ेगा।

34   जो हौलनाक बातें तेरी आँखें देखेंगी उन से तू पागल हो जाएगा।

35   रब्ब तुझे तक्लीफ़दिह और लाइलाज फोड़ों से मारेगा जो तल्वे से ले कर चाँदी तक पूरे जिस्म पर फैल कर तेरे घुटनों और टाँगों को मुतअस्सिर करेंगे।

36   रब्ब तुझे और तेरे मुक़र्रर किए हुए बादशाह को एक ऐसे मुल्क में ले जाएगा जिस से न तू और न तेरे बापदादा वाक़िफ़ थे। वहाँ तू दीगर माबूदों यानी लकड़ी और पत्थर के बुतों की ख़िदमत करेगा।

37   जिस जिस क़ौम में रब्ब तुझे हाँक देगा वहाँ तुझे देख कर लोगों के रोंगटे खड़े हो जाएँगे और वह तेरा मज़ाक़ उड़ाएँगे। तू उन के लिए इब्रतअंगेज़ मिसाल होगा।

38   तू अपने खेतों में बहुत बीज बोने के बावुजूद कम ही फ़सल काटेगा, क्यूँकि टिड्डे उसे खा जाएँगे।

39   तू अंगूर के बाग़ लगा कर उन पर ख़ूब मेहनत करेगा लेकिन न उन के अंगूर तोड़ेगा, न उन की मै पिएगा, क्यूँकि कीड़े उन्हें खा जाएँगे।

40   गो तेरे पूरे मुल्क में ज़ैतून के दरख़्त होंगे तो भी तू उन का तेल इस्तेमाल नहीं कर सकेगा, क्यूँकि ज़ैतून ख़राब हो कर ज़मीन पर गिर जाएँगे।

41   तेरे बेटे-बेटियाँ तो होंगे, लेकिन तू उन से महरूम हो जाएगा। क्यूँकि उन्हें गिरिफ़्तार करके किसी अजनबी मुल्क में ले जाया जाएगा।

42   टिड्डियों के ग़ोल तेरे मुल्क के तमाम दरख़्तों और फ़सलों पर क़ब्ज़ा कर लेंगे।

43   तेरे दर्मियान रहने वाला परदेसी तुझ से बढ़ कर तरक़्क़ी करता जाएगा जबकि तुझ पर ज़वाल आ जाएगा।

44   उस के पास तुझे उधार देने के लिए पैसे होंगे जबकि तेरे पास उसे उधार देने को कुछ नहीं होगा। आख़िर में वह सर और तू दुम होगा।

45   यह तमाम लानतें तुझ पर आन पड़ेंगी। जब तक तू तबाह न हो जाए वह तेरा ताक़्क़ुब करती रहेंगी, क्यूँकि तू ने रब्ब अपने ख़ुदा की न सुनी और उस के अह्काम पर अमल न किया।

46   यूँ यह हमेशा तक तेरे और तेरी औलाद के लिए एक मोजिज़ाना और इब्रतअंगेज़ इलाही निशान रहेंगी।

47   चूँकि तू ने दिली ख़ुशी से उस वक़्त रब्ब अपने ख़ुदा की ख़िदमत न की जब तेरे पास सब कुछ था

48   इस लिए तू उन दुश्मनों की ख़िदमत करेगा जिन्हें रब्ब तेरे ख़िलाफ़ भेजेगा। तू भूका, पियासा, नंगा और हर चीज़ का हाजतमन्द होगा, और रब्ब तेरी गर्दन पर लोहे का जूआ रख कर तुझे मुकम्मल तबाही तक ले जाएगा।

49   रब्ब तेरे ख़िलाफ़ एक क़ौम खड़ी करेगा जो दूर से बल्कि दुनिया की इन्तिहा से आ कर उक़ाब की तरह तुझ पर झपट्टा मारेगी। वह ऐसी ज़बान बोलेगी जिस से तू वाक़िफ़ नहीं होगा।

50   वह सख़्त क़ौम होगी जो न बुज़ुर्गों का लिहाज़ करेगी और न बच्चों पर रहम करेगी।

51   वह तेरे मवेशी और फ़सलें खा जाएगी और तू भूकों मर जाएगा। तू हलाक हो जाएगा, क्यूँकि तेरे लिए कुछ नहीं बचेगा, न अनाज, न मै, न तेल, न गाय-बैलों या भेड़-बक्रियों के बच्चे।

52   दुश्मन तेरे मुल्क के तमाम शहरों का मुहासरा करेगा। आख़िरकार जिन ऊँची और मज़्बूत फ़सीलों पर तू एतिमाद करेगा वह भी सब गिर पड़ेंगी। दुश्मन उस मुल्क का कोई भी शहर नहीं छोड़ेगा जो रब्ब तेरा ख़ुदा तुझे देने वाला है।

53   जब दुश्मन तेरे शहरों का मुहासरा करेगा तो तू उन में इतना शदीद भूका हो जाएगा कि अपने बच्चों को खा लेगा जो रब्ब तेरे ख़ुदा ने तुझे दिए हैं।

54   मुहासरे के दौरान तुम में से सब से शरीफ़ और शाइस्ता आदमी भी अपने बच्चे को ज़बह करके खाएगा, क्यूँकि उस के पास कोई और ख़ुराक नहीं होगी। उस की हालत इतनी बुरी होगी कि वह उसे अपने सगे भाई, बीवी या बाक़ी बच्चों के साथ तक़्सीम करने के लिए तय्यार नहीं होगा।

55   मुहासरे के दौरान तुम में से सब से शरीफ़ और शाइस्ता आदमी भी अपने बच्चे को ज़बह करके खाएगा, क्यूँकि उस के पास कोई और ख़ुराक नहीं होगी। उस की हालत इतनी बुरी होगी कि वह उसे अपने सगे भाई, बीवी या बाक़ी बच्चों के साथ तक़्सीम करने के लिए तय्यार नहीं होगा।

56   तुम में से सब से शरीफ़ और शाइस्ता औरत भी ऐसा ही करेगी, अगरचि पहले वह इतनी नाज़ुक थी कि फ़र्श को अपने तल्वे से छूने की जुरअत नहीं करती थी। मुहासरे के दौरान उसे इतनी शदीद भूक होगी कि जब उस के बच्चा पैदा होगा तो वह छुप छुप कर उसे खाएगी। न सिर्फ़ यह बल्कि वह पैदाइश के वक़्त बच्चे के साथ ख़ारिज हुई आलाईश भी खाएगी और उसे अपने शौहर या अपने बाक़ी बच्चों में बाँटने के लिए तय्यार नहीं होगी। इतनी मुसीबत तुझ पर मुहासरे के दौरान आएगी।

57   तुम में से सब से शरीफ़ और शाइस्ता औरत भी ऐसा ही करेगी, अगरचि पहले वह इतनी नाज़ुक थी कि फ़र्श को अपने तल्वे से छूने की जुरअत नहीं करती थी। मुहासरे के दौरान उसे इतनी शदीद भूक होगी कि जब उस के बच्चा पैदा होगा तो वह छुप छुप कर उसे खाएगी। न सिर्फ़ यह बल्कि वह पैदाइश के वक़्त बच्चे के साथ ख़ारिज हुई आलाईश भी खाएगी और उसे अपने शौहर या अपने बाक़ी बच्चों में बाँटने के लिए तय्यार नहीं होगी। इतनी मुसीबत तुझ पर मुहासरे के दौरान आएगी।

58   ग़रज़ एहतियात से शरीअत की उन तमाम बातों की पैरवी कर जो इस किताब में दर्ज हैं, और रब्ब अपने ख़ुदा के पुरजलाल और बारोब नाम का ख़ौफ़ मानना।

59   वर्ना वह तुझ और तेरी औलाद में सख़्त और लाइलाज अमराज़ और ऐसी दह्शतनाक वबाएँ फैलाएगा जो रोकी नहीं जा सकेंगी।

60   जिन तमाम वबाओं से तू मिस्र में दह्शत खाता था वह अब तेरे दर्मियान फैल कर तेरे साथ चिमटी रहेंगी।

61   न सिर्फ़ शरीअत की इस किताब में बयान की हुई बीमारियाँ और मुसीबतें तुझ पर आएँगी बल्कि रब्ब और भी तुझ पर भेजेगा, जब तक कि तू हलाक न हो जाए।

62   अगर तू रब्ब अपने ख़ुदा की न सुने तो आख़िरकार तुम में से बहुत कम बचे रहेंगे, गो तुम पहले सितारों जैसे बेशुमार थे।

63   जिस तरह पहले रब्ब ख़ुशी से तुम्हें काम्याबी देता और तुम्हारी तादाद बढ़ाता था उसी तरह अब वह तुम्हें बर्बाद और तबाह करने में ख़ुशी मह्सूस करेगा। तुम्हें ज़बरदस्ती उस मुल्क से निकाला जाएगा जिस पर तू इस वक़्त दाख़िल हो कर क़ब्ज़ा करने वाला है।

64   तब रब्ब तुझे दुनिया के एक सिरे से ले कर दूसरे सिरे तक तमाम क़ौमों में मुन्तशिर कर देगा। वहाँ तू दीगर माबूदों की पूजा करेगा, ऐसे देवताओं की जिन से न तू और न तेरे बापदादा वाक़िफ़ थे।

65   उन ममालिक में भी न तू आराम-ओ-सुकून पाएगा, न तेरे पाँओ जम जाएँगे। रब्ब होने देगा कि तेरा दिल थरथराता रहेगा, तेरी आँखें परेशानी के बाइस धुन्दला जाएँगी और तेरी जान से उम्मीद की हर किरन जाती रहेगी।

66   तेरी जान हर वक़्त ख़त्रे में होगी और तू दिन रात दह्शत खाते हुए मरने की तवक़्क़ो करेगा।

67   सुब्ह उठ कर तू कहेगा, “काश शाम हो!” और शाम के वक़्त, “काश सुब्ह हो!” क्यूँकि जो कुछ तू देखेगा उस से तेरे दिल को दह्शत घेर लेगी।

68   रब्ब तुझे जहाज़ों में बिठा कर मिस्र वापस ले जाएगा अगरचि मैं ने कहा था कि तू उसे दुबारा कभी नहीं देखेगा। वहाँ पहुँच कर तुम अपने दुश्मनों से बात करके अपने आप को ग़ुलाम के तौर पर बेचने की कोशिश करोगे, लेकिन कोई भी तुम्हें ख़रीदना नहीं चाहेगा।”


Deuteronomy 27    Choose Book & Chapter    Deuteronomy 29


Licensed to Jesus Fellowship. All Rights reserved. (Script Ver 2.0.2)
© 2002-2021. Powered by BibleDatabase with enhancements from the Jesus Fellowship.